दतिया-जी एन एम हाॅस्टल में छात्राओं से कराया जा रहा मजदूरी का काम भोजन और पेयजल की समस्या से जूझ रही ही छात्रायें समस्या – प्रीसीपल पर लगा है छात्र उत्पीडन का आरोप –

मनोज गोस्वामी
जी एन एम हाॅस्टल में छात्राओं से कराया जा रहा मजदूरी का काम
भोजन और पेयजल की समस्या से जूझ रही ही छात्रायें समस्या –
प्रीसीपल पर लगा है छात्र उत्पीडन का आरोप –
कलेक्टर ने दिया कार्यवाही का अश्वासन –
कलेक्टर से मिलने पर जी एन एम अधिकारियों ने निकाला छात्राओं पर गुस्सा
दतिया में आज शासकीय मेडीकल काॅलेज के जी एन एम हाॅस्टल में अध्यनरत छात्राओं ने अपने ही प्रींसीपल पर उत्पीडन का आरोप लगाते हुए दतिया कलेक्टर आरपीएम जादौन को ज्ञापन दिया। हाॅस्टल में फैली अव्यवस्थाओं से ये छात्रायें काफी नाराज और परेशान थी। छात्राओं की माॅग थी कि हाॅस्टल में पानी की समस्या का निदान हो। नियमित खाना और हाॅस्पीटल तक जाने के लिए वाहन उपलब्ध हो। आपकों बता दे जहाॅ जी एन एम काॅलेज है वहा से हाॅस्पीटल लगभग पाॅच किलामीटर दूर है जी एन एम हाॅस्टल से जिला चिक्तिसालय यह छात्रायें स्वयं किराये के वाहन में बैठकर जाती है या पैदल पहुॅचती है इस स्थिति में जी एन एम हाॅस्टल की इन छात्राओं को हमेशा खतरे का अंदेशा रहता है।
दतिया कलेक्टर आर पी एम जादौन ने छात्राओं की समस्या को सुना और मुख्यचिक्तिसा अधिकारी , एसडीएम को तुरत कार्यवाही के निर्देष दिए है।
आर पी एम जादौन दतिया कलेक्टर
इस मामले में जब जी मीडिया की टीम जी एन एम काॅलेज पहुॅची तो वहाॅ का वही दृश्य देखने को मिला जिसकी छात्राओं द्वारा शिकायत की गयी थी छात्रायें मेस से बाहर आई और उन्होने सामूहिक होकर अपना दर्द बयां किया। छात्राओं ने बताया कि उनके माता-पिता ने उन्हें पढने के लिए भेजा है लेकिन उनसे मेस में खाना और हाॅस्टल में पोछा सफाई जैसा कार्य कराया जा है छात्रायेंज ब इसका जब विरोध करते है तो प्रींन्सीपल चन्द्रकला दिगईया छात्राओं की हाजिरी खराब करने और रिज्लट विगाडने जैसी धमकी देती है छात्रओं से हाॅस्टल में पोछा यहाॅ तक की शिंक की सफाई तक करवाई जाती है सभी छात्राओं से गल्त ढंग से रूपयों की अबैध बसूली करने का आरोप लगा है।
जब इस मामले में मौजूद जीएनएम एक महिला अधिकारी से बात करने की कोशिश की तो आप देख सकते है किस ढंग से यह मीडिया से बचकर भाग रही है यहाॅ तक कहाॅ आप हमारे पीछे क्यों पढे है उन्होने आफिस का चैनल भी लगा किया और ताला लटका दिया है।
जीएनएम टीचर से जब बात की गयी तो उन्होने छात्राओं को होने वाली परेशानी की बात को स्वीकार किया दवी जवान से छात्राओं के साथ होने वाली प्रताडना भी स्वीकारी, लेकिन उन्होने अधिकारी का भय व्याप्त होने के कारण ज्यादा कुछ नहीं उगला है।
टीचर जी एन एम
मध्यप्रदेश से लगभग 350 छात्रायें है यह दतिया मेडीकल काॅलेज के जी एन एम हाॅस्टल में रहकर अध्यनरत है इनके लिए शासन ने हाॅस्टल की विशेष व्यवस्था की है लेकिन प्रींसीपल हिटलशाही के आगे यह छात्रायें दुखी है शिकायत करने के बाद अब यह भयभीत भी है